Pages

Friday, September 16, 2011

कितना खुद को पहचान पाए?

क्या सीखे क्या जान पाए,
कितना खुद को पहचान पाए,
अब जो बैठे हैं खुद के साथ
तो लगा कितना कुछ छूट गया हर रुत के साथ|
क्या ये दौड़ भाग कभी कम होगी?
एक दूसरे से आगे निकल जीतने की चाह कब ख़त्म होगी?
हर एक पल यहाँ एक क़र्ज़ सा लगता है,
भीड़ में खो जाना ही अच्छा सा लगता है|
हर रिश्ते की यहाँ कीमत लगायी जाती है
मिलने और बिछड़ने की शर्तें लगायी जाती हैं
जो हस दे दिल एक बार वो बातें अब कहाँ हैं
खुद से मिलने का लोगों पे समय ही कहाँ है,
खुद से मिलने का लोगों पे समय ही कहाँ है...

8 comments:

Geet said...
This comment has been removed by the author.
Geet said...

i didn't knew you are a fabulous poet as well..!!!
good to discover that..!!
tc..

Mansi said...

thank you....my first in hindi!
I know its pathetic :-P
bt i also know u gonna praise it :-P

Ashish Anant said...

Wow Mansi :) This is REALLY nice. and Hindi is always refreshing :))

Blasphemous Aesthete said...

khud se baith kar do baat kar lein to duniya asaan ho jaati hai, kyunki hum kisi aise vyakti se apne dil ki baat kar paate hain jo unko samjh paaye.

Achha likha hai!


Cheers,
Blasphemous Aesthete

Mansi said...

@Ashish:
Thnx a lot :-)
Hindi is certainly nice...read your recent blog post...its too good !

@BA:
sach kaha!
Dhanyawaad!
:-)

Rahul said...

A beautifully penned poem!

Mansi said...

thnx Rahul!
:-)